Register Now

Login

Lost Password

Lost your password? Please enter your email address. You will receive a link and will create a new password via email.

ईस्टर संडे क्या है? ईस्टर संडे क्यों मनाते है?

ईस्टर संडे क्या है? ईस्टर संडे क्यों मनाते है?

ईस्टर संडे क्या है ?

ईसाई धर्म में ईस्टर संडे एक ख़ुशी का दिन होता है। ईसाई धर्म के अनुसार गुड फ्राइडे वाले दिन ईसा मसीह को सूली पर लटकाया गया था और उसके ठीक 3 दिन बाद यानिकी संडे वाले दिन वो दोबारा जीवित हो गए थे इसी दिन को ईस्टर संडे के रूप में मनाया जाता है। ईस्टर संडे को खजूर इतवार भी कहा जाता है। यह त्यौहार जीवन में नयी शुरुवात और नये बदलाव का प्रतीक माना जाता है। ईसाई धर्म के लोग इस दिन को बड़े ही धूमधाम और ख़ुशी के साथ मनाते है। ग्रंथो के अनुसार जब गुड फ्राइडे को यीशु की मृत्यु हुई थी उसके तीसरे ही दिन वो जीवित हो गए थे और उसके बाद 40 दिनों तक वो अपने दोस्तों, भक्तो और शिशुओं के साथ रहे थे और फिर 40 दिन के बाद वो वापस स्वर्ग में चले गए थे। उनके दोबारा जीवित होने की ख़ुशी में सभी लोग इस दिन को ईस्टर संडे या ईस्टर तरह मनाते है। सभी गिरजाघरों में यह दिन बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन लोग रात्रि में जागरण और बहुत से अन्य पारम्परिक कार्य करते है जिनसे उन्हें ख़ुशी मिलती है।

ईस्टर संडे क्यों मनाते है ?

ईसा मसीह के दोबारा जीवित होने की ख़ुशी में ईस्टर संडे मनाया जाता है। इसे मनाने की कोई तारीफ तय नहीं है यह हर साल तिथि के हिसाब से अलग तारीखों पर पड़ता है। इस दिन ईसा मसीह की आराधना सबसे पहले महिलाओ द्वारा की जाती है क्योकि उनके दोबारा जीवित होने पर उनको सबसे पहले एक महिला ने ही देखा था और सभी महिलाओ को इसकी खबर की थी। विदेश में ऐसे बहुत से शहर है जहाँ इस दिन की तैयारी पहले से ही शुरू हो जाती है। लोग अपने घर, बाज़ारो और गिरजाघरों और गुब्बारों, फूलो, मोमबत्ती और अन्य चीज़ो से सजाते है। बहुत सी जगह पर इस दिन की छुटटी होती है ताकि सभी  लोग अपना यह त्यौहार आराम से और ख़ुशी से मना सके। एक दिन पहले शाम को सारे बाजार रोशन हो जाते है और वहाँ की रोनक देखने लायक होती है। सजावट को देखने के लिए लोग दूर दूर से आते है। वैसे तो ईसा मसीह दोबारा जीवित होने के 40 दिन बाद स्वर्ग चले गए थे लेकिन फिर भी उनके दोबारा जीवित होने की ख़ुशी लोग बड़े जोर शोर से मनाते है। उन्होंने अपना जीवन बिना सोचे त्याग दिया। वो जब तक जीवित रहे उन्होंने सबका भला किया एहि वजह है की लोग उनके वचनो को पढ़कर उन्हें आज भी दिल से याद करते है और उनकी’श्रद्धा के साथ पूजा अर्चना करते है। ईसाई धर्म में इस त्यौहार का बहुत महत्व है और सभी इसे ख़ुशी से मनाते है।

बहुत से लोगो को ईस्टर के बारे में जानकारी नहीं है वो यही सोचते है की ईस्टर क्या है क्यों मनाते है इसका महत्व और भी बहुत कुछ। ऊपर दी गई सभी बातें पढ़ने के बाद सभी को इस दिन का महत्व और इसके पीछे की कहानी समझ आ गई होगी’और बाकि धर्मो के लोग भी इस त्यौहार को उतना ही महत्व देंगे जितना सभी को देते है। इस दिन का बहुत महत्व होता है। ईसा मसीह सच में बहुत महान थे हम सभी मिलकर इस दिन उन्हें जरूर याद करेंगे और प्रार्थना भी करेंगे।