Romeo and Juliet Story in Hindi – रोमियो और जूलिएट की प्रेम कहानी




ROMEO AND JULIET STORY IN HINDI

रोमियो और जूलियट की कहानी के बारे में सभी लोग जानते है। यह प्राचीन समय की एक बहुत ही प्रसिद्ध और रोचक कथा है जिसके बारे में हर कोई जानना पसंद करता है। इस कहानी का ज़िक्र बहुत जगह हुआ है कभी किसी फिल्म में, किसी गाने में या किसी नाटक में। यह बहुत ही प्रसिद्ध है और जब भी किसी नाटक की बात आती है तो सभी के दिमाग में रोमियो और जूलियट का नाटक ही याद आता है। इस कहानी को बहुत सी जगह कविता के रूप से किया गया है। वैसे तो यह कहानी एक इटैलियन कहानी के आधार पर है। इस प्रसिद्ध कहानी को शेक्स्पियर ने 1591-1595 के बीच में लिखा था और इसे किताब में 1597 में प्रकाशित किया गया था जिसे आगे चलकर सभी लोगो ने बहुत पसंद किया। समय के साथ इस किताब के और भी बहुत से पार्ट आये जिन्हे भी सभी लोगो ने बहुत सराहा। कुछ समय बाद यानि की 20 और 21 सदी में भी इस नाटक को बहुत बार दोहराया गया और हर बार सभी ने इसे बहुत ज्यादा पसंद किया। यह एक प्रसिद्ध और रोचक प्रेम कथा है जो पहले के लोगो की ही आज के लोगो की भी पहली पसंद है।

रोमियो और जूलियट कहानी:

रोमियो और जूलिएट की प्रेम कहानी

रोमियो और जूलियट की कहानी बहुत समय पहले की है। रोमियो और जूलियट एक दूसरे से एक पार्टी के दौरान मिले थे। इस समय दोनों की एक दूसरे से पहली बार मुलाकात हुई। यह एक मुलाकात कब प्यार में बदल गई दोनों को पता ही नहीं चला। दोनों ही एक दूसरे से बेहद प्यार किया करते थे। लेकिन सच्चाई यह थी की दोनों के परिवार एक दूसरे से बहुत नफरत करते थे और यह बात रोमियो और जूलियट दोनों ही जानते थे। वो इस बात से भी वाकिफ थे की उनके परिवार वाले उन्हें कभी भी एक नहीं होने देंगे। वो दोनों इस बात को लेकर बहुत चिंता में थे।

कुछ समय बाद दोनों ने मिलकर फ्रिअर लॉरेंस से बात की और उन्ही के साथ सभी बातें करने के बाद दोनों ने भाग कर और घर वालो से छुपकर शादी करने की एक योजना बनाई। दोनों के बीच सब कुछ तय हो गया था लेकिन अचानक कुछ ऐसा हुआ जिसने कुछ ही समय में दोनों की ज़िन्दगी बदल कर रख दी। उनकी शादी का सारा क्रायक्रम तय होने के बाद रात के समय रोमियो ने किसी वजह से जूलियट के भाई की हत्या कर दी। इसी वजह से अब रोमियो चाहता था की जूलियट उसे छोड़ दे। उसने जूलियट से उसे छोड़ देने की बहुत ज़िद की। वह यह बात अच्छे से जनता था की हत्या करने के बाद अगर वो इस शहर में वापस आया तो वो अब ज़िंदा नहीं बचेगा।

इन सबके बाद जूलियट के माता पिता चाहते थे की अब जूलियट की शादी कर दी जाये। उन्होंने जूलियट के लिए पैरिस में रिश्ता देखा क्योकि वो लोग इस बात से अनजान थे की जूलियट तो पहले से ही शादी शुदा है। जूलियट पहले तो उन्हें कुछ दिनों तक किसी ना किसी बहाने से टालती रही। कुछ समय बाद जब जूलियट को लगा की बात उसके हाथ में नहीं है तो उसने फ्रिअर लॉरेंस के साथ मिलकर अपने मरने की एक योजना बनाई जिससे वो आसानी से रोमियो के साथ भाग सके और सभी को लगे की वो मर चुकी है। इस योजना के बारे में रोमियो को कुछ भी नहीं पता था।

एक दिन फ्रिअर लॉरेंस ने जूलियट को खाने में नींद की गोली मिलाकर दे दी जिससे वो बेहोश हो गई और सभी को लगा की वो मर चुकी है। उनकी योजना के मुताबिक जब जूलियट को दफ़नाने के लिए ले जाया जाता तो वो भाग जाती लेकिन ऐसा नहीं है जब रोमियो को जूलियट के मरने की खबर का पता लगा तो वो आया और जूलियट की झूठी लाश के सामने उसने खुद को चाकू मारकर उसी जगह अपनी जान दे दी। कुछ देर बाद जब जूलियट को होश आया और उसने रोमियो को वहा मरा हुआ पाया तो उसने भी उसी चाकू से खुद को मार डाला। इसी तरह दोनों की जान जाने के बाद यह प्रेम कहानी अमर हो गई।

इस मशहूर, लोकप्रिय और दिल को छू लेने वाली कथा को पढ़कर आपको भी कोई ना कोई शिक्षा इससे जरूर मिली होगी। यह कहानी सभी प्यार करने वालो के लिए एक प्रोत्साहन और साहस पूर्वक है। इससे उन सभी लोगो को शक्ति मिलती है जो प्यार तो कर लेते है लेकिन उस प्यार के लिए जब किसी से लड़ने की या हक़ मांगने की बात आती है तो वो पीछे हट जाते है। रोमियो और जूलियट ने सब कुछ जानते हुए भी एक दूसरे से प्यार तो किया साथ ही उस प्यार को पूरा निभाने के लिए हर एक प्रयास किया और अंत में दोनों ने अपनी जान भले ही दे दी लेकिन अपने प्यार को किसी के भी सामने हारने नहीं दिया। इस कहानी से उन सभी लोगो की शिक्षा लेनी चाहिए जिनके मन में अपने प्यार को लेकर किसी भी तरह का डर है। आजकल इस तरह की कहानी देखने और सुनने को नहीं मिलती है शायद यही वजह है की लोग इन पुरानी कहानिओ को सुनकर और देखकर की एक हौसला हासिल करते है और आगे बढ़ने की कोशिश करते है। आज हम सभी को रोमियो और जूलियट से एक सिख लेनी चाहिए और यही प्रयास करना चाहिए की हम अपने प्यार को एक मुकाम तक आसानी से पहुंचा सके ताकि हमारा प्यार भी हमेशा ज़िंदा रहे।







Be the first to comment

Leave a Reply