ISRO द्धारा अंतरिक्ष में भेजी गयी 104 सैटेलाइट्स की पूरी लिस्ट व जानकारी




ISRO द्वारा अंतरिक्ष में भेजी गयी 104 सैटेलाइट्स की पूरी लिस्ट व जानकारी

ISRO ने 15 February, 2017 को PSLV- C37 नामक रॉकेट 104सैटेलाइट्स के साथ लॉन्च करके पुराने सभी रिकार्ड्स को तोड़ दिया है। इंडियन एजेंसी ने  इससे पहले भी Mars पर सबसे सस्ता सैटेलाइट भेजके रिकॉर्ड  कायम किया था,जिसे मँगल्यान नाम दिया था ।  यह रॉकेट श्रीहरिकोटा में सतीश धवन द्वारा लांच किया गया है।इस रिकॉर्ड लॉन्चिंग के साथ ही इंडिया ने रशिया के 37 सेटेलाइट को एक साथ लॉन्च करने के रिकॉर्ड को तोड़कर पहले स्थान पर आ गया है।

यह हमारे पास 104 सैटेलाइट्स की पूरी लिस्ट है आइये एक नज़र डालते है इनपर:

Satellite NameOrganisationCountryNumber of Satellites
CartoSat-2DISROIndia1
INS-1AISROIndia1
INS-1BISROIndia1
Flock-3pPlant LabsUnited States of America88
Lemur-2Spire GlobalUnited States of America8
Al-Farabi-1Al-Farabi Kazakh National UniversityKazakhstan1
BGUSatBen Gurion UniversityIsrael1
Nayif-1Emirates Institution for Advanced Science and TechnologyUAE1
DIDO-2Space PharmaIsrael and Switzerland1
PEASSPEASS ConsortiumNetherlands1

1. CartoSat-2D- ISRO, INDIA (1)-

ये सेटेलाइट CartoSat-2 सीरिज़ की पाँचवी सेटेलाइट है।ये बहुत  ही भारी है इसका वजन करीब 714 किलोग्राम  है जो PSLV-C37 रॉकेट के वजन 1377 किलोग्राम के आधे से भी ज्यादा है।इससे ली गयी तस्वीरों को इंडिया मे रोड मेप्स और पानी के वितरण के लिये किया जाएगा।

2. INS-1A- ISRO, India (1)

इस सेटेलाइट का वजन करीब 8.4 किलोग्राम  है।ये 6 महीनों तक धरती की ओर्बिट मे रहेगी।जिससे पता लग सकेगा कैसे किसी धुन्द्ली सतह से रोशनी प्रतिबिम्बित होती है ।ये वातावरण को सुरक्षित करने मे मदद करेगी।

3. INS-1 B- ISRO, India (1)

इस सेटेलाइट का वजन करीब 9.7 किलोग्राम है ।ये 6-12 महीने तक ओर्बिट मे घुमेगी,ये EELA और SAC टेक्नीक  से लेस है।इसमे लगा रिमोट सेनसिंग केमरा किसी भी कलर मे हाइ रेज़ल्यूशन की तस्वीरें लेने मे सक्षम  है ।

4. Flock-3p – Plant Labs, United States of America (88)

इन सेटेलाइट  के प्रेक्षिप्त होते ही Dove सेटेलाइट की संख्या 100 हो गयी है।ये सेटेलाइट दिन मे एक बार धरती की पूरी सतह की तस्वीर लेने मे सक्षम है ।

5. Lemur-2 – Spire Global, United States of America (8)

Lemur-2 सेटेलाइट्स U.S से ऑपरेट की जाती है।ये सेटेलाइट धरती के वातावरण का तापमान ,नमी और दबाव नापने का काम करेगी ।

6. Al-Farabi-1 – Al-Farabi Kazakh National University, Kazakhstan (1)

इस सेटेलाइट को Kazakhstan’s Al-Farabi Kazakh नेशनल यूनिवर्सिटी के छात्र ने बनया है ।इसका वजन करीब 1.7 किलोग्राम है ।इसका उपयोग अप लिंक और डाउन लिंक को निकालने के लिये किया जाएगा।

7. BGUSat – Ben Gurion University, Israel (1)

इस सेटेलाइट  को Israel’s Ben Gurion यूनिवर्सिटी  ने बनाया है ।ये दो बहुत  ही महत्वपूर्ण कार्यों को करेगा ,जिसमे पहला जीपीयेस  रिसीव करने के लिये और दूसरा ऑप्टिकल संचार प्रयोग के लिये किया जाएगा ।

8. Nayif-1 – Emirates Institution for Advanced Science and Technology (EIAST), UAE (1)

इसे  EIAST के छात्रों ने बनया है ,इसे शिक्षा सम्बन्धी उद्देश्यों के लिये उपयोग  किया जाएगा ।

9. DIDO-2 – Space Pharma, Israel and Switzerland (1)

DIDO-2 एक बहुत  ही छोटी सेटेलाइट है ।इस सेटेलाइट को धरती के गुरुत्वाकर्षण मे  भौतिक और रसायनिक होने  वाले प्रयोग की जानकारी प्राप्त करने के लिये बनाया  गया है ।ये सभी जानकारी को आसानी से धरती पर भेज सकेगा ।

10. PEASS – PEASS Consortium, Netherlands, Germany, Belgium, and Israel (1)

इस छोटी सेटेलाइट का प्रयोग पीएजो एलेक्ट्रिक पदार्थों के लिये किया जाएगा जो अगली पीढी के लिये स्मार्ट  ढाँचा  देने मे मदद करेगा ।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने भी ISRO को इस एक नये कीर्तिमान को स्थापीत करने और रशिया के रिकॉर्ड को तोड़ने के लिये बधाई दी ।इसके लिए प्रधानमंत्री जी ने ट्वीट भी किया और ISRO के वैज्ञानीको को सैल्युट करके बधाई दी ।ISRO का ये नया कीर्तिमान पूरे  देश  के लिये एक बहुत बड़े गर्व की बात है ।







Be the first to comment

Leave a Reply